173 गांवों के किसानों ने किया प्रदर्शन

हजारों की संख्या में ट्रैक्टरों से लघु सचिवालय पहुंचे, शुगर मिल की पेराई क्षमता बढ़ाने की कर रहे मांग


सोनीपत। भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में 173 गांवों के किसानों ने शुगर मिल में पेराई क्षमता बढ़ाने के लिए जोरदार प्रदर्शन किया। विभिन्न गांवों से किसान अपने ट्रैक्टरों के साथ शुगर मिल से प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय पहुंचे। वहां किसानों ने उपायुक्त केएम पांडुरंग को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। किसानों का कहना है कि यदि 21 अगस्त तक मांगें पूरी नहीं हुई तो किसान परिवार के साथ सड़कों पर उतरेंगे।


किसानों का नेतृत्व करते हुए प्रदेश महामंत्री वीरेंद्र बढ़खालसा ने कहा कि पिछले वर्ष नवंबर में मुख्यमंत्री द्वारा शुगर मिल में पेराई क्षमता बढ़ाने का वादा किया गया था। उसके बावजूद अभी तक क्षमता बढ़ाने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई। इसकी वजह से किसानों में रोष पनप रहा है। उन्होंने कहा कि मिल की पेराई क्षमता कम होने की वजह से सोनीपत शुगर मिल में बहुत कम मात्रा में गन्ना लिया जाता है। इसकी वजह से बहुत से किसानों का गन्ना खेतों में पड़ा रहता है। जब कहीं रास्ता नजर नहीं आता तो किसान यूपी की तरफ रुख कर लेते हैं। यहां पर किसान अपने गन्ने को मजबूरीवश सस्ते दाम पर बेच देते हैं। इससे किसानों को प्रतिवर्ष नुकसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि शुगर मिल घाटे का होने, किसी घोटाले की तरफ संकेत कर रहा है, इसलिए मिल की पूर्ण रूप से जांच होनी चाहिए। उपायुक्त ने किसानों का ज्ञापन लेते हुए कहा, अब सत्र शुरू होने से करीब दस दिन पहले ही गन्ना मिल में पहुंचना शुरू हो जाएगा। मिल की क्षमता को लेकर उन्होंने कहा कि शीघ्र ही उच्चाधिकारियों के साथ बैठक कर क्षमता बढ़वाई जाएगी। इस दौरान जिलाध्यक्ष ताहर सिंह, युवाध्यक्ष मुकेश, प्रवीन, वीरेंद्र, रामवीर, सूरज, सुरेंद्र दहिया, रवि सहित सैकड़ों की तादाद में ग्रामीण मौजूद रहे।

 

किसानों के प्रदर्शन से शहर में जाम, रेंगते रहे वाहन चालक
सोनीपत। सौ से अधिक ट्रैक्टरों के काफिले ने शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को हिलाकर रख दिया। बस स्टैंड से लेकर छोटूराम चौक तक वाहन चालकों की कतार लग गई। करीब दो घंटे तक वाहन जाम में रेंगते रहे। हालांकि पुलिस ने वाहन चालकों के रूट को डायवर्ट भी किया, लेकिन उससे भी निजात नहीं मिल सकी। प्रदर्शन समाप्त होने के बाद ही वाहन चालकों ने राहत की सांस ली।
किसानों ने शुगर मिल की पेराई क्षमता बढ़ाने की मांग को लेकर बुधवार को शहर में जोरदार प्रदर्शन किया। अलग-अलग गांवों के किसान 100 से अधिक ट्रैक्टरों के साथ शुगर मिल से लघु सचिवालय पहुंचे। किसान शुगर मिल गेट से बस स्टैंड, गीता भवन चौक, छोटूराम चौक से गुजरते हुए लघु सचिवालय पहुंचे। ट्रैक्टरों की इतनी बड़ी तादाद होने की वजह से बस स्टैंड से छोटूराम चौक तक जाम लग गया। जाम को देखते हुए एक दफा तो ट्रैफिक पुलिस के होश फाख्ता हो गए। आनन-फानन में पुलिस ने वाहन चालकों का रूट डायवर्ट किया। रूट डायवर्ट होने के बाद वाहन चालकों को थोड़ी राहत मिली। हालांकि जब तक किसानों का काफिला सचिवालय नहीं पहुंचा, तब तक यातायात व्यवस्था पटरी पर नहीं आ सकीं। किसानों का प्रदर्शन समाप्त होने के बाद ही पुलिसकर्मियों और वाहन चालकों ने राहत की सांस ली।